शनिवार, फ़रवरी 03, 2007

टेलीविज़न चैनलों की दुनिया

जहाँ तक भारत से समाचार मिलने और संचार साधनों की बात है उसमें 1980 के दशक के जीवन और आज की स्थिति में इतना अंतर आ चुका है कि सोचने पर विश्वास नहीं होता. यह बदलाव पहले तो धीरे धीरे शुरु हुआ. पहले टेलीग्राम के बदले में आया टेलेक्स और फ़िर फाक्स. आज क्या कोई टेलीग्राम का उपयोग करता है, मालूम नहीं, टेलेक्स अवश्य ही समाप्त हो गया. फाक्स आज भी जीवित है पर बूढ़े माँ बाप की तरह जिनके लिए बच्चों के पास समय नहीं होता.

शुरु में तो टेलीफोन करना भी कठिन था. काल बुक करा कर घँटों इंतज़ार में बैठे रहते और शायद आज के हिसाब से अधिक मँहगी भी थी. फ़िर 1994 में घर में पहला कंप्यूटर आया और साथ ही ईमेल और बुलेटिन बोर्ड वाले गुट जिसमें से भारत से सम्बंधी गुट खोजते रहते थे. कई सालों तक ईमेल से मिलने वाले अमरीका में रहने वाले भारतीयों के सौजन्य से मिलने वाले भारतीय समाचारों की डाईजेस्ट से ही पता चलता था कि भारत में क्या हुआ. आज कें अंतर्जाल और पिछले तीन चार वर्षों में चौड़े रास्ते यानि ब्रोडबैंड के आने से बदलाव में इतनी तेजी आई है कि सोचो तो विश्वास नहीं होता कि अभी कुछ साल पहले तक यह सब कुछ सम्भव नहीं था.

बस एक क्षेत्र में ही कुछ कठिनाईयाँ थीं, रेडियों सुनने और भारतीय टेलीविजन देखने के क्षेत्र में.

पिछले कुछ सालों से विदेशों में चलने वाले भारतीय रेडियो स्टेशनों की संख्या धीरे धीरे बढ़ रही है. लंदन से सनराईज रेडियो तथा बीबीसी की हिंदी सेवा, पेरिस से तीन ताल रेडियो और निंबूड़ा रेडियो, दुबाई से हम रेडियो. मुंबई से एक पूर्वरिकार्डिड कार्यक्रम देने वाले रेडियो भी है बोलीवुड ओन डिमांड पर भारत से अंतर्जाल पर सीधा प्रसारण करने वाले रेडियो नहीं हैं, शायद इसलिए कि भारतीय कानून इसकी अनुमति नहीं देता? आल इंडिया रेडियो का अंतर्जाल पृष्ठ बहुत सालों से यही संदेश देता है कि सीधा प्रसारण कुछ समय के लिए बंद है. अपने मन पसंद गाने चुन कर उन्हें अपनी मर्जी से सुनना भी बहुत आसान है.

वीडियो के मामले में कुछ पीछे थे पर 2006 में बहुत परिवर्तन आया है. स्मेशहिट, वाह इंडिया, सिफी मेक्स, जैसे पृष्ठों पर समाचारों, खाना बनाना, इधर उधर की गपबाजी, हिंदी सिनेमा जगत सम्बंधित बातें सब कुछ आप आराम से देख सकते हैं. राजश्री फिल्मस ने अंतर्जाल पर अपने फिल्में, गानों, महाभारत जैसे सीरियल आदि के कार्यक्रम इत्यादि देखने की सुविधा दी है. स्टार टीवी वालों ने भी अपना नया पृष्ठ बनाया जिसमें उनके कार्यक्रमों की छोटी सी झलक देख सकते हैं, पर यह इतना रुक रुक कर आता है कि मजा नहीं आता. बीडब्ल्यूसिनेमा जैसे पृष्ठ भी हैं जहाँ आप दो‍तीन डालर का टिकट खरीद कर नई हिंदी फिल्में देख सकते हैं.

बस एक भारतीय टेलीविजन देखने की कमी थी जिसके लिए इटली जैसे देश जहाँ भारतीय बहुत कम हैं सेटेलाईट का डिश एंटेना लगवा कर भी उतना आसान नहीं था. पर पिछले महीनों में इसमें भी परिवर्तन आने लगा है. दूरदर्शन समाचार वालों ने पहले शुरु किया था पर उसमें वीडियो अच्छा नहीं था और बहुत रुक रुक कर आता था. फिर जब से आबीएन और आईबीएन 7 अंतर्जाल पर आने लगे तो दूरदर्शन देखने की कोशिश करनी ही बंद कर दी.

अब आईदेसीटीवी नया जाल स्थल है जहाँ आप विभिन्न भारतीय टेलीविजन चैनलों को देख सकते हैं. थोड़े से भी लोग हों तो यह रुक रुक कर आता है, और शायद इसीलिए अभी मुफ्त है. यानि कि बस थोड़े ही समय की बात है, देश विदेश में दूर दूर तक सभी प्रवासी अब एकता कपूर के सास बहू के झगड़े देख सकेंगे, भूत प्रेतों की कहानियाँ समाचारों के रूप में सुनेगे, लालूजी, अडवानी जी जैसे महानुभावों की मधुर वाणी और ज्ञानी वचन सुन सकेंगे.

*****

हिंदी की मासिक पत्रिका हँस का जनवरी अंक कल मिला. इस बार सारा अंक ही समाचारों की टेलीविजन चैनलों की दुनिया पर है. अभी केवल राजेंद्र यादव का उत्तेजनीय संपादकीय ही पढ़ा है और देखा है कि विभिन्न टीवी चैनलों में काम करने वालों ने कहानियाँ लेख आदि लिखे हैं. उनमें से एक अविनाश का नाम ही जानता हूँ, पर उन सबको पढ़ने के लिए बहुत उत्सुक हूँ. नये लोग नया लिखे और शायद हिंदी लेखन में कुछ नया ला पायें!

हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में समाचार पत्रों और किताबों में लिखने वालों को, अँग्रेजी में लिखने वालों के सामने नीचा समझा जाता है पर शायद हिंदी टेलीविजन करने वालों को अधिक सम्मान मिलता है?

*****

यहाँ बरलुस्कोनी और उनकी पत्नी वेरोनिका के बारे में बहस सब टीवी चैनलों पर चल रही है. एक सर्वेक्षण में 55 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वेरोनिका ने ठीक नहीं किया जबकि 33 प्रतिशत लोग, अधिकतर स्त्रियाँ, उनको ठीक मानती हैं. कुछ का कहना है कि वेरोनिका यह इसलिए किया क्योंकि बरलुस्कोनी जी का किसी के साथ चक्कर है और वह पत्नी को छोड़ने की सोच रहे थे. कुछ कहते हैं कि वेरोनिका राजनीति में भाग लेने वाली हैं. कुछ कहते हें कि यह तलाक की तैयारी हो रही है.

बरलुस्कोनी जी के लिए इस तरह की बातें नयी नहीं हैं. सत्तर वर्ष के हैं पर शल्य चिकित्सा से लिफ्टिंग करवा कर, सिर पर नये बाल लगवा कर जवान दिखते हैं. कुछ साल पहले नोर्वे की प्रधानमंत्री से इसी तरह की घुमाने फिराने की कुछ बात कर हल्ला मचवा दिया था. चुनाव से पहले उन्होंने कहा कि वह जीतने के लिए छह महीने तक ब्रह्मचर्य करके देश के लिए त्याग करेंगे पर उनके विरोधियों ने कहा कि यह तो सिर्फ बहाना था दुनिया को दिखाने के लिए कि वह इतने बूढ़े नहीं हैं. खैर जो भी हो, उनका पीछा करने वाले पत्रकारों ने समाचार दिया कि वह अपनी पत्नी के साथ रात का खाना खाते देखे गये और सारी शाम घर में ही रहे, यानि कि पति पत्नी झगड़ा अभी तो शाँत हो गया है.

6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बहुत काम के लिंक दिए आपने। धन्यवाद ! आपकी पोस्ट को बुकमार्क कर लिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया जानकारी दी. हंस की वेबसाइट भी बहुत दिनों के बाद अपडेट की गई है, और जनवरी का मीडिया अंक डाला गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह टैम्प्लेट फ़ॉयरफ़ॉक्स पर बिगड़ जाता है. सही करने के लिए इसके टैम्प्लेट में कुछ बदलाव करने होंगे. अधिक जानकारी के लिए यह कड़ी देखें-
    http://raviratlami1.blogspot.com/2006/09/how-to-blog-in-complex-asian-indian.html

    साथ ही, मेरे जैसे 50 वर्ष की सीमा की ओर पहुँच रहे लोगों की आँखों में श्याम पृष्ठभूमि पर सफेद अक्षर तो दिखाई ही नहीं देता...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैंने एक सांस में ये आर्टिकल पढ़ डाला। मुझे नहीं मालूम था कि हिंदी की लाइव दुनिया नेट पर इस कदर मौजूद है। मैंने एक एक करके सब छाना, मुझे सब मिला और बहुत इत्‍मीनान हुआ कि जिस डेस्‍कटॉप के सामने बैठा हूं, वह ईश्‍वर की तरह अदृश्‍य अनंत नहीं, बल्कि दिखता हुआ अनंत है। अभी टेली कम्‍युनिकेशन का एक एड आया है, जिसमें कमाल के प्रयोग हैं। कि अगर गांधी आज होते, तो उन्‍हें पूरी दुनिया घूमना नहीं पड़ता। वे साबरमती में बैठकर बोलते और पूरी दुनिया उन्‍हें ठीक उसी वक्‍त सुन सकती!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुनील जी, हमेशा की तरह एक रोचक और जानकारी पूर्ण लेख के लिए धन्यवाद। मैं ने भी अपनी साइट पर रेडियो और टीवी स्टेशनों की सूची बना रखी है। उसे भी देखें

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...